Pages

Thursday, April 23, 2015

ग़ज़ल उसने छेड़ी, मुझे साज़ देना (सफ़ी लखनवी)

ग़ज़ल उसने छेड़ी, मुझे साज़ देना
ज़रा उम्र-ए-रफ़्ता को आवाज़ देना

क़फ़स ले ऊडूँ मैं हवा अब जो सनके
मदद इतनी अय बाल-ए-परवाज़ देना

न खामौश रहना मेरे हम-सफीरों,
जब आवाज़ दूँ तुम भी आवाज़ देना

कोई सीख लें दिल की बेताबियों को,
हर अंजाम में रक़्स-ए-आगाज़ देना

No comments:

Post a Comment