Pages

Thursday, April 23, 2015

रश्क कहता है के उस का ग़ैर से इख़्लास हैफ़...अक़्ल कहती है के वो बे-मेहर किस का आश्ना (ग़ालिब)

Source: http://rekhta.org

No comments:

Post a Comment