Pages

Sunday, May 17, 2015

ज़िंदगी प्यार की दो चार घड़ी होती है (राजिंदर किशन)

बहरे रमल मुसम्मन मख़बून महज़ूफ़ अब्तर: 2122 1122 1122 22 or 2122 1122 1122 112 में लिखा गया एक गीत:
ज़िंदगी प्यार की दो चार घड़ी होती है 
चाहे थोड़ी भी हो ये उम्र बड़ी होती है 

ताज या तख्त या दौलत हो ज़माने भर की 
कौन सी चीज़ मुहब्बत से बड़ी होती है 
                                                                           ज़िंदगी ... 

दो मुहब्बत भरे दिल खाक धड़कते हो जहाँ 
सबसे लम्बी वो मुहब्बत की घड़ी होती है 
                                                                         ज़िंदगी ...

चित्रपट / Film: Anaarkali (1953)
संगीतकार / Music Director: सी. रामचंद्र-(C Ramchandra)
गीतकार / Lyricist: Rajinder Krishan
गायक / Singer(s): हेमंत-(Hemant)


No comments:

Post a Comment