Pages

Friday, May 15, 2015

रमल मुसम्मन महज़ूफ़ के कुछ उदाहरण

बहरे रमल मुसम्मन महज़ूफ़: 2122 2122 2122 212

(1)
रश्क कहता है कि उसका ग़ैर से अख़लास हैफ़
अक़्ल कहती है कि वो बे-महर किस का आशना
                                                                                                                 -गालिब
(2)
اب تو ہے عشق بتاں میں زندگانی کا مزہ
جب خدا کا سامنا ہوگا تو دیکھا جائے گا

अब तो है इश्क़-ए-बुताँ में ज़िंदगानी का मज़ा
जब ख़ुदा का सामना होगा तो देखा जाएगा 
                                                                                                    - अकबर इलाहाबादी

(3)
इन अंधेरों से न हो मायूस जारी रख सफ़र 
रख भरोसा राह में कोई किरन मिल जाएगी
                                                                                                   -दीक्षित दनकौरी

(4)
इक दफ़ा हिम्मत जुटा और अपने मन की कर गुज़र 
चंद दिन चर्चे रहेंगे और क्या हो जाएगा
                                                       -मृदुला अरुण

(5)
یوں چرائیی اس نے آنکھیں سادگی تو دیکھیے
بزم میں گویا مری جانب اشارا کر دیا

यूँ चुराई उसने आँखें सादगी तो देखिए
बज़्म में गोया मेरी जानिब इशारा कर दिया
                                                 फ़ानी बदायुनी

(6)
میں فقط چلتی رہی منرل کو سر اس نے کیا
ساتھ میرے روشنی بن کر سفر اس نے کیا

मैं फ़क़त चलती रही मंज़िल को सर उसने किया
साथ मेरे रोशनी बनकर सफ़र उसने किया
                                                         परवीन शाक़िर

(7)
شام کو جس وقت خالی ہاتھ گھر جاتا ہوں میں
مسکرا دیتے ہیں بچے اور مر جاتا ہوں میں

शाम को जिस वक़्त खाली हाथ घर जाता हूँ मैं
मुस्कुरा देते हैं बच्चे और मर जाता हूँ मैं
                                                                 राजेश रेड्डी

(8)
دھوندھتا پھرتا ہوں اے اقبال اپنے آپ کو
آپ ہی گویا مسافر آپ ہی منزل ہوں میں

ढूँढता फिरता हूँ ऐ इक़बाल अपने आप को,
आप ही गोया मुसाफ़िर आप ही मंज़िल हूँ मैं
                                                                अल्लामा इक़बाल

(9)
دل ہے قدموں پر کسی کے سر جھکا ہو یا نہ ہو
بندگی تو اپنی فطرت ہے خدا ہو یا نہ ہو

दिल है क़दमों पर किसी के सर झुका हो या न हो
बंदगी तो अपनी फ़ितरत है ख़ुदा हो या न हो
                                                                                                   - जिगर मुरादाबादी

(10)
कौरवों के चक्रव्यूह सा है मुहब्बत का नगर
लौट के आये नहीं अभिमन्यु जो भीतर गए
                                                                                                    - तरकश प्रदीप

No comments:

Post a Comment