Pages

Wednesday, June 24, 2015

मज़ारिअ मुसम्मन अख़रब मक्फ़ूफ़ मक़्सूर महज़ूफ़ छंद के कुछ उदाहरण - 2

मज़ारिअ मुसम्मन अख़रब मक्फ़ूफ़ मक़्सूर महज़ूफ़ छंद के कुछ ओर उदाहरण. 
221 2121 1221 212, ગાગાલ ગાલગાલ લગાગાલ ગાલગા
(11)
छोड़ा न रश्क ने कि तेरे घर का नाम लूँ
हर इक से पूछता हूँ कि जाऊं किधर को मैं
                                                                        - ग़ालिब

(12)
आगाह अपनी मौत से कोई बशर नहीं,
सामान सौ बरस के हैं कल की ख़बर नहीं
                                                                      (हैरत इलाहाबादी)

(13)
ऊँची इमारतों से मकां मेरा घिर गया 
कुछ लोग मेरे हिस्से का सूरज भी खा गए
                                                               (जावेद अख़्तर)

(14)
पैनी निगाह रख चले थे हर जगह मगर,
भूले तो भूले खुद के ग़िरेबाँ में झाँकना
                                                                  (निहाल महताब)

(15)
जो ज़िंदगी की सख़्त हकीकत से डर गये,
वो लोग अपनी मौत से पहले ही मर गये
                                                                                                              (नामालूम)

(16)
اپنی تباہیوں کا مجھے کوئی غم نہیں
تم نے کسی کے ساتھ محبت نبھا تو دی


अपनी तबाहियों का मुझे कोई ग़म नहीं
तुम ने किसी के साथ मोहब्बत निभा तो दी
                                                                                               (साहिर लुधियानवी)

(17)
کہہ دو ان حسرتوں سے کہیں اور جا بسیں
اتنی جگہ کہاں ہے دل داغ دار میں

कह दो इन हसरतों से कहीं और जा बसें
इतनी जगह कहाँ है दिल-ए-दाग़-दार में
                                                                                                    (बहादुरशाह ज़फ़र)

(18)
دیکھیں قریب سے بھی تو اچھا دکھائی دے
اک آدمی تو شہر میں ایسا دکھائی دے

देखें क़रीब से भी तो अच्छा दिखाई दे
एक आदमी तो शहर में ऐसा दिखाई दे
                                                                                                         ज़फ़र गोरखपुरी

(19)
جینا بھی آ گیا مجھے مرنا بھی آ گیا
پہچاننے لگا ہوں تمہاری نظر کو میں

जीना भी आ गया मुझे मरना भी आ गया
पहचानने लगा हूँ तुम्हारी नज़र को मैं
                                                                                                        असग़र गोंडवी

(20)
اک یاد رہ گئی ہے مگر وہ بھی کم نہیں
اک درد رہ گیا ہے سو رکھنا سنبھال کر

इक याद रह गई है मगर वो भी कम नहीं
इक दर्द रह गया है सो रखना सँभाल कर
                                                          - मोहम्मद अल्वी

No comments:

Post a Comment