Pages

Monday, June 15, 2015

चुटकी भर सीखा, धरती भर है बाक़ी (अशोक चक्रधर)

जो सीखा चुटकी भर सीखा, धरती भर है बाक़ी,
उस पर अहंकार दिखलाना, है ये सीख कहां की?

इल्मों के मैख़ानें से जितना चाहो पी डालो,
हर दम रहता खुला और हर पल तत्पर है साकी!
                                                                                      (अशोक चक्रधर)

No comments:

Post a Comment