Pages

Sunday, November 1, 2015

दिन को दिन रात को मैं रात न लिखने पाऊँ (राजेश रेड्डी)

दिन को दिन रात को मैं रात न लिखने पाऊँ
उनकी कोशिश है कि हालात न लिखने पाऊँ

हिंदू को हिंदू मुसलमान को लिक्खूँ मुस्लिम
कभी इन दोनों को इक साथ न लिखने पाऊँ

बस क़लमबंद किए जाऊँ मैं उनकी हर बात
दिल से जो उठती है वो बात न लिखने पाऊँ

सोच तो लेता हूँ क्या लिखना है, पर लिखते समय
काँपते क्यों है मेरे हाथ, न लिखने पाऊँ

जीत पर उनकी लगा दूँ मैं क़सीदों की झडी
मात को उनकी मगर मात न लिखने पाऊँ

                                                      - राजेश रेड्डी

No comments:

Post a Comment