Pages

Friday, May 15, 2015

रमल मुसम्मन मख़बून महज़ूफ़ अब्तर के कुछ उदाहरण

बहरे रमल मुसम्मन मख़बून महज़ूफ़ अब्तर: 2122 1122 1122 22 or 2122 1122 1122 112

(1)
रश्क से नाम नहीं लेते कि सुन ले न कोई
दिल ही दिल में उसे हम याद किया करते हैं
                                                                                इमाम बख़्श नासिख़

(2)
सामने उस के न कहते मगर अब कहते हैं
लज़्ज़त-ए-इश्क़ गई ग़ैर के मर जाने से
                                                                  - अज्ञात

(3)
अब तो ख़ुद अपनी ज़रूरत भी नहीं है हम को
वो भी दिन थे कि कभी तेरी ज़रूरत हम थे
                                                                         - ऎतबार साजिद

(4)
نہ ہوا پر نہ ہوا میرؔ کا انداز نصیب
ذوقؔ یاروں نے بہت زور غزل میں مارا

न हुआ पर न हुआ 'मीर' का अंदाज़ नसीब
'ज़ौक़' यारों ने बहुत ज़ोर ग़ज़ल में मारा
                                                                            - शेख़ इब्राहीम ज़ौक़

(5)
کیا ملا تم کو مرے عشق کا چرچا کر کے
تم بھے رسوا ہوئے آخر مجھے رسوا کر کے

क्या मिला तुम को मेरे इश्क़ का चर्चा कर के
तुम भी रुस्वा हुए आख़िर मुझे रुस्वा कर के
                                                               - ज़लील मानिकपुरी
(6)
کیا برابر کا محبت میں اثر ہوتا ہے
دل ادھر ہوتا ہے ظالم نہ ادھر ہوتا ہے

क्या बराबर का मोहब्बत में असर होता है
दिल इधर होता है ज़ालिम न उधर होता है
                                                          - जिगर मुरादाबादी

(7)
آج کی رات بھی گزری ہے مری کل کی طرح
ہاتھ آئے نہ ستارے ترے آنچل کی طرح

आज की रात भी गुज़री है मिरी कल की तरह
हाथ आए न सितारे तिरे आँचल की तरह
                                                      - अमीर क़ज़लबाश

(8)
مل ہی جائے گا کبھی دل کو یقیں رہتا ہے
وہ اسی شہر کی گلیوں میں کہیں رہتا ہے

मिल ही जाएगा कभी दिल को यक़ीं रहता है
वो इसी शहर की गलियों में कहीं रहता है
                                                        - अहमद मुश्ताक़

(9)
کشتیاں سب کی کنارے پہ پہنچ جاتی ہیں
نا خدا جن کا نہیں ان کا خدا ہوتا ہے

कश्तियाँ सब की किनारे पे पहुँच जाती हैं
ना-ख़ुदा जिन का नहीं उन का ख़ुदा होता है
                                                       - बेदम शाह वारसी

(10)
ज़िंदगी राह सुझाती है मगर शर्तों पर
सिया के आगे जनक जैसे स्वयंवर रख दे
                                          - रेनू चंद्रा

ہم کو معلوم ہے جنت کی حقیقت لیکن
دل کے خوش رکھنے کو غالبؔ یہ خیال اچھا ہے

No comments:

Post a Comment