Pages

Thursday, October 22, 2015

बहरे मुत्कारिब मुसम्मन मक़बूज़ असलम छंद के उदाहरण

बहरे मुत्कारिब मुसम्मन मक़बूज़ असलम छंद के उदाहरण: 12122 12122 12122 12122, 
લગાલગાગા લગાલગાગા લગાલગાગા લગાલગાગા

(1)

نہ بزم اپنی نہ اپنا ساقی نہ شیشہ اپنا نہ جام اپنا
اگر یہی ہے نظام ہستی تو زندگی کو سلام اپنا

न बज़्म अपनी, न अपना साक़ी, न शीशा अपना, न जाम अपना,
अगर यही है निज़ाम-ए-हस्ती तो जिन्दगी को सलाम अपना
                                                                                     - असद भोपाली


No comments:

Post a Comment