Pages

Thursday, November 19, 2015

बहरे-हज़ज मुसम्मन सालिम के कुछ उदाहरण-3

बहरे-हज़ज मुसम्मन सालिम के कुछ उदाहरण-3. बहरे-हज़ज मुसम्मन सालिम के कुछ उदाहरण-2. 1222 1222 1222 1222,લગાગાગા લગાગાગા લગાગાગા લગાગાગા

(21)
अमल से ज़िन्दगी बनती है जन्नत भी जहन्नुम भी 
ये ख़ाकी अपने फ़ितरत में न नूरी है, न नारी है
                                                                          ~ इक़बाल
(22)
કરાવી દે ઓ સૂરજ! એમના અસ્તિત્વ નું દર્શન,
ઘણા ખાબોચિયાં ખુદને સમંદર સમજી બેઠા છે.
                                                   (અજ્ઞાત)

No comments:

Post a Comment