Pages

Friday, June 3, 2016

बहरे हज़ज मुसम्मन अशतर मक़्फूफ़ मक़्बूज़ मुख़न्नक सालिम के कुछ उदाहरण (212 1222 212 1222)

बहरे हज़ज मुसम्मन अशतर मक़्फूफ़ मक़्बूज़ मुख़न्नक सालिम के कुछ उदाहरण (212 1222 212 1222)

फ़ाइलुन मुफ़ाईलुन फ़ाइलुन मुफ़ाईलुन

(1)
लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में
तुम तरस नहीं खाते बस्तियाँ जलाने में
(बशीर बद्र)
لوگ ٹوٹ جاتے ہیں ایک گھر بنانے میں
تُم ترس نہیں کھاتے بستِیاں جلانے میں
بسیر بدر

(2)
ہر دھڑکتے پتھر کو لوگ دل سمجھتے ہیں
عمریں بیت جاتی ہیں دل کو دل بنانے میں

हर धड़कते पत्थर को लोग दिल समझते हैं
उम्रें बीत जाती हैं दिल को दिल बनाने में
(बशीर बद्र)

No comments:

Post a Comment