Pages

Thursday, July 2, 2015

कुछ गुजराती अशआर के तरजुमें

हमारे गुजरात के कुछ बेहतरीन शायरों के अशआर के तरजुमें पेश करने जा रहा हूँ।

(1) 
હો ગુર્જરીની ઓથ કે ઉર્દૂની ઓ 'મરીઝ', 
ગઝલો ફક્ત લખાય છે દિલની ઝબાનમાં
                                                                   (મરીઝ)

हो गुर्जरी की आड़ या उर्दू की ओ मरीज़
ग़ज़लें लिखी जाती हैं तो दिल की ज़बान में 
                                                                  (मरीज़)

ہو گُرجری کی آڑ یا اردو کی او مریزؔ
غزلیں لکھی جاتی ہیں تو دل کی زبان میں
                                                           (مریز)

(2)
ઝાંઝવા જળ સીંચશે એ આશ પર,
રણમાં તૃષ્ણાએ કરી છે વાવણી,
                                          (શૂન્ય પાલનપુરી)

सराब कर दे अगर आबपाशी सहरा में, 
ये आरज़ू पे की है तिश्नगी ने बोआई, 
                                      (शून्य पालनपुरी) 

سراب کر دے اگر آبپاشی سحرا میں 
یہ آرزو پہ کی ہے تشنگی نے بوائی
                                         (شونیہ پالنپُری)

No comments:

Post a Comment