Pages

Tuesday, June 16, 2015

बहरे खफ़ीफ मुसद्दस मख़बून के कुछ उदाहरण-1

बहरे खफ़ीफ मुसद्दस मख़बून के कुछ उदाहरण-1. 2122 1212 22. ગાલગાગા લગાલગા ગાગા.
(1)
بندگی ہم نے چھوڑ دی ہے فرازؔ
کیا کریں لوگ جب خدا ہو جائیں

बंदगी हम ने छोड़ दी है 'फ़राज़'
क्या करें लोग जब ख़ुदा हो जाएँ
                                                                                                   अहमद फ़राज़

(2)
या इलाही वो पार लग जाएं 
डूबते वक़्त कह गया कोई
                                                                                           - दीक्षित दनकौरी

(3)
तू ने देखा नहीं तेरे दर से 
लौटकर किस तरह गया कोई
                                                                                         - दीक्षित दनकौरी
                                                                                 (4)
आइना जब यक़ीन का टूटा 
वो उधर, और में इधर टूटी 
                                                                                           -सारिका त्यागी

(5)
चुप न रहती तो और क्या करती 
ख़ुद को रुसवा, उसे ख़फ़ा करती 
                                                                                        - अलका मिश्रा 'कशिश'

(6)
याद आती है तेरी,जब-जब भी
ग़म की रंगत निखार देती है
                                                      - दीक्षित दनकौरी
(7)
تم مہبت کو کھیل کہتے ہو
ہم نے برباد زںدگی کر لی

तुम मोहब्बत को खेल कहते हो,
हम ने बर्बाद ज़िन्दगी कर ली
                                             - बशीर बद्र

(8)
सोचता हूँ कि उस की याद आख़िर
अब किसे रात भर जगाती है
                                      जौन एलिया

سوچتا ہوں کہ اس کی یاد آخر
اب کسے رات بھر جگاتی ہے

(9)
تم محبت کو کھیل کہتے ہو
ہم نے برباد زندگی کر لی

तुम मोहब्बत को खेल कहते हो,
हमने बर्बाद ज़िंदगी कर ली,
                                     बशीर बद्र

(10)
آدمی آدمی سے ملتا ہے
دل مگر کم کسی سے ملیتا ہے

आदमी आदमी से मिलता है,
दिल मगर कम किसी से मिलता है
                                       - जिगर मुरादाबादी

No comments:

Post a Comment